राजीव कुमार प्रशासनिक अधिकारी हैं और निरंतर लेखन-पठन में सक्रिय हैं। इनकी कविताओं और समीक्षा ने इधर सबका ध्यान आकृष्ट किया है। उन्होंने युवा लेखिका अणुशक्ति सिंह के पहले मिथकीय उपन्यास ‘शर्मिष्ठा’ पर बहुत ही सुचिन्तित समीक्षा लिखी है। पुस्तक वाणी प्रकाशन से आई है।