Intact.. and also in shreds - Poems of Aparna Anekvarna.

5 comments
Aparna Anekvarna Poems are written not with words but feelings, things you see around you everyday get transformed into powerful v...

३२ रुपये, सब कुछ ठीक है और कछुए दौड़ रहे थे सदियों से : अशोक कुमार की कविताएँ

1 comment
इन दिनों फेसबुक पर निरंतर लिख रहे अशोक कुमार की कविताओं ने ध्यान आकृष्ट किया है। इनकी कविताएँ एक आम आदमी की ज़िंदगी और उसके संघर्षों ...

Popular Post

back to top